Long Poem Aatm parichay

Biography Poems
Here you will find the Long Poem Aatm parichay of poet Harivansh Rai Bachchan

Aatm parichay

मैं जग-जीवन का भार लिए फिरता हूँ,
Main jag ka bhaar liye firta hun,
फिर भी जीवन में प्‍यार लिए फिरता हूँ,
Fir bhi jivan mein pyaar liye firta hun,
कर दिया किसी ने झंकृत जिनको छूकर
Kar diya kisi ne jhankrit jinko chhookar,
मैं सासों के दो तार लिए फिरता हूँ!
Main saanson mein taar liye firta hun!

मैं स्‍नेह-सुरा का पान किया करता हूँ,
main sneh-sura ka paan kiya karta hun,
मैं कभी न जग का ध्‍यान किया करता हूँ,
main kabhi na jag ka dhyan kiya karta hun,
जग पूछ रहा है उनको, जो जग की गाते,
jag pooch raha hai unko, jo jag ki gaate,
मैं अपने मन का गान किया करता हूँ!
main apne man ka gaan kiya karta hun!

मैं निज उर के उद्गार लिए फिरता हूँ,
main nij ur ke udgar liye firta hun,
मैं निज उर के उपहार लिए फिरता हूँ,
main nij ur ke uphar liye firta hun,
है यह अपूर्ण संसार ने मुझको भाता
hai yah apoorn sansar ne mujhko bhaata,
मैं स्‍वप्‍नों का संसार लिए फिरता हूँ!
main swapnon ka sansar liye firta hun!

मैं जला हृदय में अग्नि, दहा करता हूँ,
main jala hriday mein agni, daha karta hun,
सुख-दुख दोनों में मग्‍न रहा करता हूँ,
sukh-dukh donon mein magn raha karta hun,
जग भव-सागर तरने को नाव बनाए,
Jag bhav sagar tarne ko naav banaaye,
मैं भव मौजों पर मस्‍त बहा करता हूँ!
Main bhav maujon par mast baha karta hun!

मैं यौवन का उन्‍माद लिए फिरता हूँ,
Main yauvan ka unmad liye firta hun,
उन्‍मादों में अवसाद लिए फिरता हूँ,
Unmaadon mein avsaad liye firta hun,
जो मुझको बाहर हँसा, रुलाती भीतर,
Jo mujhko baahar hansa, rulati bhitar,
मैं, हाय, किसी की याद लिए फिरता हूँ!
Main, haay, kisi ki yaad liye firta hun!

कर यत्‍न मिटे सब, सत्‍य किसी ने जाना?
kar yatn mite sab, satya kisi ne na jaana?
नादन वहीं है, हाय, जहाँ पर दाना!
naadan vahin hai, haay, jahaan par daana!
फिर मूढ़ न क्‍या जग, जो इस पर भी सीखे?
fir moodh na kya jag, jo is par bhi seekhe?
मैं सीख रहा हूँ, सीखा ज्ञान भूलना!
main seekh raha hun, seekha gyan bhoolna!

मैं और, और जग और, कहाँ का नाता,
main aur, aur jag aur, kahaan ka naata,
मैं बना-बना कितने जग रोज़ मिटाता,
main bana-bana kitne jag roj mitata,
जग जिस पृथ्‍वी पर जोड़ा करता वैभव,
jag jis prithvi par joda karta vaibhav,
मैं प्रति पग से उस पृथ्‍वी को ठुकराता!
main prati pag se us prithvi ko thukrata!

मैं निज रोदन में राग लिए फिरता हूँ,
main nij roj rodan liye firta hun,
शीतल वाणी में आग लिए फिरता हूँ,
shhetal vaani mein aag liye firta hun,
हों जिसपर भूपों के प्रसाद निछावर,
hon jispar bhoopon ke prasad nichhawar,
मैं उस खंडर का भाग लिए फिरता हूँ!
main us khandar ka bhag liye firta hun!

मैं रोया, इसको तुम कहते हो गाना,
main roya, isko tum kahte ho gaana,
मैं फूट पड़ा, तुम कहते, छंद बनाना,
main phoot pada, tum kahte, chhand banana,
क्‍यों कवि कहकर संसार मुझे अपनाए,
kyun kavi kahkar sansar mujhe apna

     

Featured Artist

Featured Artist

Jeanne Fiedler
Writing

Publishing Books
Selling handcrafts
Learning to play the harmonica

Registered Users