Long Poem Raat aadhi kheench kar meri hatheli

Biography Poems
Here you will find the Long Poem Raat aadhi kheench kar meri hatheli of poet Harivansh Rai Bachchan

Raat aadhi kheench kar meri hatheli

रात आधी, खींच कर मेरी हथेली एक उंगली से लिखा था 'प्यार' तुमने। 
Raat aadhi, kheench kar meri hatheli ek ungli se likha tha ‘pyaar’ tumne.

फ़ासला था कुछ हमारे बिस्तरों में
Faasla tha kuchh hamare bistaron mein
और चारों ओर दुनिया सो रही थी,
Aur chaaron or duniya so rahi thi,
तारिकाएँ ही गगन की जानती हैं
Taarikaaein hi gagan ki jaanti hain 
जो दशा दिल की तुम्हारे हो रही थी,
Jo dasha dil ki tumhaare ho rahi thi,
मैं तुम्हारे पास होकर दूर तुमसे
Main tumhare paas hokar dur tumse

अधजगा-सा और अधसोया हुआ सा,
Adhjaga-sa aur adhsoya hua sa,
रात आधी खींच कर मेरी हथेली
Raat aadhi kheench kar meri hatheli
रात आधी, खींच कर मेरी हथेली एक उंगली से लिखा था 'प्यार' तुमने। 
Raat aadhi, kheench kar meri hatheli ek ungli se likha tha ‘pyaar’ tumne.

एक बिजली छू गई, सहसा जगा मैं,
Ek bijli chhoo gayi, sahsa jaga main,
कृष्णपक्षी चाँद निकला था गगन में,
Krishnapakshi chaand nikla tha gagan mein,
इस तरह करवट पड़ी थी तुम कि आँसू
Is tarah karvat padi thi tum ki aansu
बह रहे थे इस नयन से उस नयन में,
Bah rahe the is nayan se us nayan mein,

मैं लगा दूँ आग इस संसार में 
Main laga dun aag is sansar mein
प्यार जिसमें इस तरह असमर्थ कातर,
Pyaar jismein is tarah asamarth kaatar,
जानती हो, उस समय क्या कर गुज़रने
Jaanti ho, us samay kya kar gujarne
के लिए था कर दिया तैयार तुमने!
Ke liye tha kar diya taiyyar tumne!
रात आधी, खींच कर मेरी हथेली एक उंगली से लिखा था 'प्यार' तुमने। 
Raat aadhi, kheench kar meri hatheli ek ungli se likha tha ‘pyaar’ tumne.

प्रात ही की ओर को है रात चलती
Praat hi ki or ko hai raat chalti
औ’ उजाले में अंधेरा डूब जाता,
Au’ ujaale mein andhera dub jaata,
मंच ही पूरा बदलता कौन ऐसी,
Manch hi pura badalta kaun aisi,
खूबियों के साथ परदे को उठाता,
Khubiyon ke saath parde ko uthaata,

एक चेहरा-सा लगा तुमने लिया था,
Ek chehra-sa laga tumne liya tha,
और मैंने था उतारा एक चेहरा,
Aur maine tha utaara ek chehra,
वो निशा का स्वप्न मेरा था कि अपने पर
Wo Nisha ka swapna mera tha ki apne par
ग़ज़ब का था किया अधिकार तुमने।
Gajab ka tha kiya adhikar tumne.
रात आधी, खींच कर मेरी हथेली एक उंगली से लिखा था 'प्यार' तुमने। 
Raat aadhi, kheench kar meri hatheli ek ungli se likha tha ‘pyaar’ tumne.

और उतने फ़ासले पर आज तक सौ
Aur utne faasle par aaj tak sau
यत्न करके भी न आये फिर कभी हम,
Yatna karke bhi na aaye fir kabhi hum,
फिर न आया वक्त वैसा, फिर न मौका
Fir na aaya vakt vaisa, fir na mauka
उस तरह का, फिर न लौटा चाँद निर्मम,
Us tarah ka, fir na lauta chaand nirmam,

और अपनी वेदना मैं क्या बताऊँ,
Aur apni vedna main kya bataaoon,
क्या नहीं ये पंक्तियाँ खुद बोलती हैं
Kya nahin ye panktiyan khud bolti hain
बुझ नहीं पाया अभी तक उस समय जो
Bujh nahin paaya abhi tak us samay jo
रख दिय

     

Featured Artist

Featured Artist

Divyang K Chhaya (advocate)
Poetry

Law Practice
Law Practice
Law Practice

Registered Users